0

कोई फर्क नही पड़ता….

कोई फर्क नही पड़ता कि तुमने किसे चाहा और कितना चाहा…..!

हमें तो ये पता है कि हमने तुम्हें चाहा और हद से ज्यादा चाहा…..!! 

 

Koi fark nahi padta ki tumne kise chaha or kitna chaha….!

Hame to ye pata he ki hamne tumhe chaha or had se jayada chaha….!! 

0

अब छोड़ दिया है….

अब छोड़ दिया है “इश्क़” का “स्कूल” हमने भी,

हमसे अब “मोहब्बत” की “फीस” अदा नही होती….!!

 

Ab chhod diya hai “ishq” ka “school” hamne bhee,

Humse ab “mohabbat” kee “fees” adaa nahee hotee….!!

0

कोई फर्क नही पड़ता……

कोई फर्क नही पड़ता

कि तुमने किसे चाहा

और कितना चाहा…..!

हमें तो ये पता है,

कि हमने तुम्हें चाहा

और हद से ज्यादा चाहा…!!

I Love You

 

Koi fari nahi padta

Ki tumne kise chaha 

Or kitna chaha….! 

Hame to ye pata he, 

Ki hamne tumhe chaha

Or had se jayada chaha…..!!

   I LOVE YOU

0

वो तो अपना दर्द ….

वो तो अपना दर्द 

रो-रो कर सुनते रहे, 

हमारी तन्हाइयों से भी, 

आँखे चुराते रहे, 

हमें ही मिल गया

ख़िताब-ए-बेवफा, 

क्योकि हम हर दर्द 

मुस्करा कर छुपाते रहे….!! 

 

Vo to apna dard

Ro-ro kar sunte rahe, 

Hamari tanhaeyo se bhi

Aankh churate rahe, 

Hame hi mil gaya 

khitab-e-bevafa, 

Kyoki ham har dard 

Muskra kar chupte rahe…..!!  

0

जब हुई थी मोहब्बत…..

जब हुई थी मोहब्बत तो लगा किसी अच्छे कम का है सिला…..! 

खबर ना थी की गुनाहों की सजा ऐसे भी मिलती है…..!! 

 

Jab hui thi mohhabat to laga ki kisi aache kaam ka he sila….!

khabar na thi ki gunahon ki saja eese bhi milati he…..!!