0

शाम के बाद मिलती….

शाम के बाद मिलती हे रात

हर बात में समाई हुई हे तेरी याद….!

बहुत तन्हा होती ये जिंदगी 

अगर नहीं मिलता जो आपका साथ……!! 

 

Sham ke baad milti he raat 

Har raat me samai he aapki yaad….!

Bahut tanha hoti ye jindagi

Agar nahi milata jo aapka sath….!!

0

लोग इश्क में जान….

लोग इश्क में जान देने की बात 

करते हे पर्व देता कोई नहीं ….!

हम तो हथेली पर जन लिए बैठे हे 

कम्ब्ख्क्त कोई मांगता ही नहीं…..!! 

 

Log ishq me jaan dene ki baat 

Karte he par deta koi bhi nahi…..!

Ham to hetheli par jan liye bethe he 

Kambhakt koi mangata hi nahi…..!! 

0

इकरार में शब्दों की….

इकरार में शब्दों की एहमियत नहीं होती, 

दिल के जज्बात की आवाज नहीं होती, 

आँखें बयां कर देती हें दिल की दास्ताँ,

मोहब्बत लफ्जों के मोहताज नाजो होती…..!! 

 

Iqrar Mein Shabdon Ki Ehmiyat Nahi Hoti,

Dil Ke Jazbat Ki Awaaz Nahi Hoti,

Aankhein Bayan Kar Deti Hain Dil Ki Dastan,

Mohabbat Lafzon Ki Mohtaz Nahi Hoti….!!

0

रंजिश ही सही दिल….

रंजिश ही सही दिल को दुखाने के लिए आ

आ फिर से मुझे छोड़ जाने के लिए आ

कुछ तो मेरे इश्क़ का रहने दे भरम

तू भी तो कभी मुझे मनाने के लिए आ….!!

0

फिर न सिमटेगी…

फिर न सिमटेगी मोहब्बत जो बिखर जायेगी

जिंदगी जुल्फ नहीं जो फिर संवर जाएगी,

थाम लो हाथ उसका जो प्यार करे तुमसे

ये जिंदगी ठहरेगी नहीं, जो गुजर जाएगी….!!

0

ये दिल न जाने…

ये दिल न जाने क्या कर बैठा मुझसे

बिना पूछे ही फैसला कर बैठा,

इस जमीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता

और ये पागल चांद से मोहब्बत कर बैठा….!!