0

अपने होठों को मेरे…..

अपने होठों को मेरे होठों से आज छू जाने दो, 

दिल की हसरत आज पूरी हो जाने दो, 

मेरी तो हर रात तन्हा होती हें….!

तुम आज की रात को सुहानी होने जाने दो…..!! 

 

Apne hothon ko mere hothon se aaj chhu jane do,

Dil ki hasrate aaj puri ho jane do,

Meri to har raat tanha hoti hai……!

Tum aaj ki raat ko suhani hone jaane do…..!!

0

तेरे ख्वाबों में आयेंगे…..

तेरे ख्वाबों में आयेंगे आज हम, 

तेरे दिल में उतर जाएंगे आज हम, 

बना आज रात तुम्हें अपना…!

तुम को तुम्ही से चुरा ले जाएंगे आज हम….!!  

 

Tere khawabo mein aayenge aaj hum,

Tere dil mein uter jayenge aaj hum,

Bana aaj raat tumhe apna….!

Tum ko tumhi se chura le jayenge aaj hum….!!

0

इजाजत हो तो ख्वाबो…..

इजाजत हो तो ख्वाबो में आये तुम्हारे, 

इजाजत हो तो दिल की छु जाये तुम्हारे, 

बन के तकिया आज तुम्हारा….!

इजाजत हो तो साथ सो जाये तुम्हारे….!!

शुभ रात्रि 

 

Ijazat ho tu khawabo mein aaye tumhare,
Ijazat ho to dil ko chhu jaye tumhare,
Ban ke takiya aaj tumhara….!
ijazat ho to sath so jaye tumhare…..!!

Good Night My Jaan

0

चाँद की चाँदनी में…..

चाँद की चाँदनी में एक पालकी बनाई हे, 

और हमने ये पालकी बड़े प्यार से सजी हे, 

दुआ हे ए हवा तुझसे, जरा धीरे चलना, 

मेरे यार को बड़ी प्यारी नींद आई हैं……!!  

 

Chand ki chandani me ek palaki banai he, 

Or hamne ye palki bade pyar se sajai he, 

Duaa he e hawa tujhse, jara dhire chalna, 

Mere yaar ko badi pyari nind aaai he….!!   

0

चाँदनी बिखर गई है …..

चाँदनी बिखर गई है सारी, 

रब्ब से ये दुआ हमारी, 

जितनी प्यारी हे तारों की रोशनी, 

आपकी नींद भी हो इतनी प्यारी….!!  

 

Chandani bikhar gai he sari, 

Rabb se he ye duaa hamari, 

Jitni pyari he taro ki roshani, 

Aapki nind bhi ho itni pyari…..!! 

0

मीठी रातों में धीरे….

मीठी रातों में धीरे से आ जाती हे एक परी,

कुछ ख़ुशी के सपने लाती हे एक परी,

कहती हे एक सपनो के सागर में डूब जाओ, 

भूल के सारे दर्द जल्दी सो जाओ…..!!  

 

Mithi rato me dhire se aa jati he ek pari, 

Kuch khushi ke sapne lati he ek pari, 

Kahti he ke sapno ke sagar me dub jao, 

Bhul ke sare dard jaldi so jao…..!! 

0

जाने उस शख्स को….

जाने उस शख्स को कैसा ये हुनर आता हे,

रात होती हे तो आँखों में उतर आता है,

मैं उसके ख्यालों से बच के कहा जाऊ,

वो मेरी सोच के हर रास्ते पै नज़र आता हैं…..!!

 

Jane us saksh ko kesa ye hunar aata he, 

Raat hoti he to aankho me utar aata he, 

Me uske khaylo se bach ke kaha jau,

Vo meri soch ke har raste pe najar aata he….!!   

0

जी चाहता हें तुम से….

जी चाहता हें तुम से प्यारी सी बात हो, 

हसीन चाँद तारे हो, लम्बी सी रात हो, 

फिर रात भर यही गुफ्तगू रखें हम दोनों, 

तुम मेरी जिंदगी हो, टीम मेरी कायनात हो…..!!

 

Jee Chahta Hai Tum Se Pyaari Si Baat Ho,

Haseen Chand Tare Ho, Lambi Si Raat Ho,

Fir Raat Bhar Yahi Guftagu Rakhein Hum Dono,

Tum Meri Zindagi Ho, Tum Meri Kayinat Ho….!!