0

अपने होठों को मेरे…..

अपने होठों को मेरे होठों से आज छू जाने दो, 

दिल की हसरत आज पूरी हो जाने दो, 

मेरी तो हर रात तन्हा होती हें….!

तुम आज की रात को सुहानी होने जाने दो…..!! 

 

Apne hothon ko mere hothon se aaj chhu jane do,

Dil ki hasrate aaj puri ho jane do,

Meri to har raat tanha hoti hai……!

Tum aaj ki raat ko suhani hone jaane do…..!!

0

सपनों की दुनिया में….

सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए, 

मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए, 

ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में, 

ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए……।।

 

Sapno ki duniya me ham khote chale gaye, 

Madhosh n the par madhosh hote chale gaye, 

Na jane kya baat thi us chehre me, 

Na chahte hue bhi uske hote chale gaye….।।

0

तेरे हर गम को…..

तेरे हर गम को अपनी रूह में उतार लूँ,

ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ,

मुलाकात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी,

सारी उम्र बस एक मुलाकात में गुज़ार लूँ।

 

Tre har gam ko apni ruh me utar lu,

Jindagi apni teri chahat me sanwar lu,

Mulakat ho tujhse kuch is tarah meri,

Sari umar bas ek mulakat me gujar lu…..!!

0

चेहरे पै मेरे जुल्फ….

चेहरे पै मेरे जुल्फ को फैलाओ किसी दिन,

क्या रोज गरजते हो बरस जाओ किसी दिन,

खुशबु की तरह गुजरो मेरे दिल की गली से,

फूलों की तरह मुझ पर बिखर जाओ किसी दिन,

 

Chehre pe mere julf ko fealao kisi din,

Kya roj garjte jo baras jao kisi din,

Khusbu ki tarh gujro mere dil ki gali se,

Fulo ki tarah mujh par bikhar jao kisi din…..!!

0

तेरे गम को अपनी…..

तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ, 

जिंदगी तेरी चाहत में संवार लूँ,

मुलाकात हो तुझसे इस तरह , 

की तमाम उम्र बस एक मुलाकात में गुजार लूँ…..!!  

 

Tere Gham Ko Apni Rooh Mein Utar Lu,

Zindagi Teri Chahat Mein Sanwar Lu,

Mulaqat Ho Tujh Se Iss Tarah,

Tamam Umar Bas Ek Mulaqat Mein Guzaar Lu….!!

0

इश्क ने हमें बेनाम…

इश्क ने हमें बेनाम कर दिया

हर खुशी से हमे अंजान कर दिया,

हमने तो कभी नहीं चाहा कि हमें मोहब्बत हो

लेकिन आपकी एक नजर ने हमें नीलाम कर दिया….!!