0

आँसुओं से जिनकी….

आँसुओं से जिनकी आँखें नम नहीं, 

क्या समझते हो कि उन्हें कोई गम नहीं? 

तड़प कर रो दिए गर तुम तो क्या हुआ,

गम छुपा कर हँसने वाले भी कम नहीं…..।।

 

Aansuo se jinki aakhe nam nahi, 

Kya samjhte ho ki unhe koi gam nahi?

Tadap kar ro diye gar tum to kya hua, 

Gam chupa kar hanse wale bhi kam nahi…..।। 

0

अब छोड़ दिया है….

अब छोड़ दिया है “इश्क़” का “स्कूल” हमने भी,

हमसे अब “मोहब्बत” की “फीस” अदा नही होती….!!

 

Ab chhod diya hai “ishq” ka “school” hamne bhee,

Humse ab “mohabbat” kee “fees” adaa nahee hotee….!!

0

कोई फर्क नही पड़ता……

कोई फर्क नही पड़ता

कि तुमने किसे चाहा

और कितना चाहा…..!

हमें तो ये पता है,

कि हमने तुम्हें चाहा

और हद से ज्यादा चाहा…!!

I Love You

 

Koi fari nahi padta

Ki tumne kise chaha 

Or kitna chaha….! 

Hame to ye pata he, 

Ki hamne tumhe chaha

Or had se jayada chaha…..!!

   I LOVE YOU

0

जिंदगी आज कल…..

जिंदगी आज कल, 

गुजर रही हे इम्तिहानों के दौर से….!

एक जख्म भरता नहीं,

दूसरा आने की जिद्द करता हैं…..!!    

 

Jindagi aaj kal 

Gujar rahi he imthano ke dour se….!

Ek jakhm bharta nahi

Dusra aane ki jidd karta he…..!!  

0

वो तो अपना दर्द ….

वो तो अपना दर्द 

रो-रो कर सुनते रहे, 

हमारी तन्हाइयों से भी, 

आँखे चुराते रहे, 

हमें ही मिल गया

ख़िताब-ए-बेवफा, 

क्योकि हम हर दर्द 

मुस्करा कर छुपाते रहे….!! 

 

Vo to apna dard

Ro-ro kar sunte rahe, 

Hamari tanhaeyo se bhi

Aankh churate rahe, 

Hame hi mil gaya 

khitab-e-bevafa, 

Kyoki ham har dard 

Muskra kar chupte rahe…..!!