0

सपनों की दुनिया में….

सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए, 

मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए, 

ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में, 

ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए……।।

 

Sapno ki duniya me ham khote chale gaye, 

Madhosh n the par madhosh hote chale gaye, 

Na jane kya baat thi us chehre me, 

Na chahte hue bhi uske hote chale gaye….।।

0

ना हवस तेरे जिस्म….

ना हवस तेरे जिस्म की ना शौक तेरी खूबसूरती का,

बेमतलब सा बन्दा हूँ बस तुझसे बहोत प्यार करता हूँ….!!

 

Na havas tere jism ki na shok teri khubsurti ka,

bematlab sa banda hu bas tujse bahut pyar karta hu….!!

0

महकता हुआ जिस्म….

महकता हुआ जिस्म तेरा गुलाब जैसा है;

नींद के सफर में तू एक ख्वाब जैसा है;

दो घूँट पी लेने दे आँखों के इस प्याले से;

नशा तेरी आँखों का शराब के जाम जैसा है…..।।

0

ऐ जिन्दगी यूं मुझसे…

ऐ जिन्दगी यूं मुझसे दगा ना कर

मैं उससे दूर रहूं ऐसी कोई दुआ ना कर,

कोई देखता है उसे तो होती है जलन मुझे

ऐ हवा तू भी उसे छुआ ना कर….!!

0

हसरत है सिर्फ तुम्हें….

हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की,

और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की,

शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है,

क्या ज़रूरत थी, तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की….!!